राज्य सरकार का महिला सशक्तिकरण में निश्चय है। उपरोक्त को ध्यान में रखते हुए, राज्य सरकार ने (Kanya Sumangala Yojana) “कन्या सुमंगला योजना” को लागू करने का निर्णय लिया है। कन्या सुमंगला योजना का मुख्य उद्देश्य है कि कन्याओं की हत्या को खत्म किया जाए, बराबरी का लिंगानुपात स्थापित किया जाए, बाल विवाह की दुर्भाग्यपूर्ण प्रथा को रोका जाए और लड़कियों के स्वास्थ्य को सुधारा जाए। और शिक्षा को प्रोत्साहित करने, लड़कियों को स्वावलंबी बनाने में मदद करने, समाज में एक सकारात्मक सोच को बढ़ावा देने के लिए।

उत्तर प्रदेश सरकार गरीब परिवारों की बेटियों के भविष्य को सशक्त बनाने के लिए कई योजनाओं को लागू कर रही है। उनमें से एक बेहद महत्वपूर्ण योजना है – “Mukhyamantri Kanya Sumangala Yojana“। इस योजना के तहत, पात्र बालिकाओं को 25000 रुपए की आर्थिक सहायता मिलेगी, जिसमें उनके माता–पिता आवेदन कर सकते हैं यहाँ आपके लिए एक खास आर्टिकल है जो आपको मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के बारे में पूरी जानकारी देगा। तो आइए, हमारे साथ बने रहें और इस योजना के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करें।

kanya Sumangala yojana ( कन्या सुमंगला योजना ) 

कन्या सुमंगला योजना एक नवाचारी धनराशि लाभ योजना है जो उत्तर प्रदेश राज्य में बेटियों को उत्थान करने का उद्देश्य रखती है। इस योजना के अंतर्गत, एक परिवार में दो लड़की बच्चों के माता-पिता को कन्या सुमंगला योजना 2024 के तहत वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है। यह योजना 25 अक्टूबर 2019 को लखनऊ, उत्तर प्रदेश में लॉन्च की गई थी।

  1. इस योजना का मुख्य उद्देश्य उत्तर प्रदेश सरकार का है, जो राज्य की बेटियों के भविष्य को उज्जवल बनाना है।
  2. योजना के अन्तर्गत, राज्य सरकार बेटियों को 25,000 रुपए की आर्थिक सहायता प्रदान करेगी।
  3. इस योजना से बेटियां अपने जन्म से लेकर स्नातक तक की पढ़ाई का खर्च सरकार से प्राप्त कर सकेंगी।
  4. इस योजना का लाभ लेने से बेटियां सशक्त बन सकती हैं, जो उन्हें अधिक आत्मनिर्भर बनाता है।
  5. मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना का मुख्य उद्देश्य गरीब परिवार की बेटियों को उच्च शिक्षा प्रदान करना है, जो उनके भविष्य को सुरक्षित और समृद्ध बनाने में सहायक होगा।
योजना का नामKanya Sumangala Yojana
किसने शुरू कियामुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ
कब लॉन्च हुई1 अप्रैल 2019
राज्यउत्तर प्रदेश
उद्देश्यराज्य के गरीब परिवारों की बेटियो को उच्च शिक्षा के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करना
लाभार्थीराज्य के गरीब परिवार
Home PageClick Here
Official WebsiteClick Here
Helpline Number18008330100, 18001800300
  1. योजना के लिए आवेदन करने के लिए आपको उत्तर प्रदेश राज्य की मूल निवासी बेटियों होना चाहिए।
  2. एक परिवार की अधिकतम दो बेटियों को ही योजना का लाभ मिलेगा।
  3. यदि कोई व्यक्ति किसी लड़की को गोद लेता है, तो उसकी अपनी बेटी और गोद ली जाने वाली बेटी दोनों ही योजना का लाभ उठा सकती हैं।
    जुड़वा बच्चियां भी इस योजना का लाभ प्राप्त कर सकती हैं।
  4. आवेदक बालिका के परिवार की वार्षिक आय 3 लाख रुपए से अधिक नहीं होनी चाहिए।
kanya yojana
किस्तसहायता राशि
बेटी के जन्म होने पर2000 रूपये
बेटी का एक वर्ष का टीकाकरण होने पर1000 रूपये
जब बेटी कक्षा 1 में प्रवेश लेगी2000 रूपये
जब बेटी कक्षा 6 में प्रवेश लेगी2000 रूपये
जब बेटी कक्षा 9 में प्रवेश लेगी3000 रूपये
बेटी जब कक्षा 10 वी/12वी उत्तीर्ण करने के बाद स्नातक,डिग्री या डिप्लोमा में प्रवेश लेगी5000 रूपये

उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री द्वारा शुरू की गई “कन्या सुमंगला योजना” के तहत, बेटियों के जन्म से लेकर स्नातक की पढ़ाई तक का खर्च सरकार उठाती है। इस योजना के अनुसार, बालिकाओं को 25,000 रुपये दिए जाते हैं, जो छह किस्तों में बाँटे जाते हैं। पहले, पात्र बालिकाओं को 15,000 रुपये दिए जाते थे, जो छह चरणों में बाँटे जाते थे। अप्रैल 2024 से, इस योजना में मिलने वाली कुल राशि 15,000 रुपये से बढ़ाकर 25,000 रुपये कर दी गई है।

1. लाभार्थी को उत्तर प्रदेश का स्थायी निवासी होना चाहिए।
2. एक परिवार में केवल दो बेटियों को ही योजना का लाभ मिलेगा।
3. परिवार की आय 3 लाख रुपए से अधिक नहीं होनी चाहिए।
4. बालिका के जन्म के 6 महीने के भीतर ही खाता खोला जा सकता है।
5. ऐसे परिवार भी इस योजना के लाभार्थी होंगे जिन्होंने बालिकाओं को गोद लिया है।
6. किसी भी परिवार में जुड़वा बच्चियां होने पर, तीसरी बालिका भी पंजीकरण के लिए पात्र होगी। यह योजना का और एक प्रमुख विशेषता है, क्योंकि ऐसे परिदृश्यों के लिए भी प्रावधान है।
7. आर्थिक दिक्कतों से जूझ रहे परिवारों को अपनी बेटियों को उनके सपनों और महत्वाकांक्षाओं को पूरा करने के लिए पर्याप्त समर्थन मिलेगा।

  • यदि आप चाहें तो आसानी से कन्या सुमंगला योजना के लिए आवेदन कर सकते हैं। अब आवेदन ऑनलाइन लिए जा रहे हैं और आप अपना खाता खोलने के लिए कन्या सुमंगला योजना के लिए ऑनलाइन पंजीकरण कर सकते हैं।
  • सबसे पहले, आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं और नागरिक सेवा पोर्टल के अंदर ‘यहां आवेदन करें’ पर क्लिक करें।
  • मौजूदा उपयोगकर्ताओं को साइन इन करने से पहले पासवर्ड और लॉगिन आईडी दर्ज करनी होगी। नए उपयोगकर्ताओं को साइन अप करने से पहले सभी नियम और शर्तों को ध्यान से पढ़ना चाहिए।
  • सत्यापन के लिए ओटीपी दर्ज करने के लिए ‘ओटीपी भेजें’ पर क्लिक करने से पहले पंजीकरण फॉर्म भरें। अगले पृष्ठ पर, आपको मोबाइल नंबर पर प्राप्त होने वाले ओटीपी दर्ज करके सत्यापन पूरा करना होगा।
  • इसके बाद वेबसाइट पर लॉगिन करें, अपना पासवर्ड और आईडी दर्ज करें। जरूरी विवरणों से भरा पंजीकरण फॉर्म भरें और ‘सबमिट’ पर क्लिक करें।
  • प्रक्रिया को सफलतापूर्वक पूरा करने के लिए सभी आवश्यक दस्तावेज़ अपलोड करें।
  • इस योजना के तहत राशि कई चरणों में जारी की जाएगी, जब लड़कियों को किसी विशेष मील के पत्थर पर पहुंचाया जाएगा, जैसे कि टीकाकरण, जन्म, कक्षा 1, 6 और 9 में प्रवेश, और स्नातकोत्तर।

मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना कब शुरू हुई उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा यह योजना 1 अप्रैल 2019 से शुरू की गई है । योजना का लाभ लेने के लिए आवेदन ऑनलाइन माध्यम से किया जाता है। इस योजना के तहत लड़कियों की शिक्षा के लिए 15,000/- तक की वित्तीय सहायता प्रदान करवाई जाएगी।

यदि आप मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के लिए आवेदन करना चाहते हैं, तो आपके पास निम्न आवश्यक दस्तावेज होने चाहिए-

  • आधार कार्ड
  • जन्म प्रमाण पत्र
  • मूल निवास प्रमाण पत्र
  • बैंक खाता पासबुक
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • चालू मोबाइल नंबर
  • वोटर आईडी कार्ड
  • गोद ली हुई बच्चों का प्रमाण पत्र (यदि है तो)

मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के लिए आवेदन करने के लिए आपको निम्नलिखित चरणों का पालन करना होगा:

  1. 1. सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं।
  2. वेबसाइट के होम पेज पर, ‘मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना’ के ऑनलाइन आवेदन से संबंधित लिंक पर क्लिक करें।
  3. आवेदन प्रक्रिया के अनुसार, योजना से संबंधित आवेदन फॉर्म भरें।
  4. आवश्यक दस्तावेजों को अपलोड करें।
  5. आवेदन को सबमिट करें।

इस तरह आपने मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन सफलतापूर्वक पूरा कर लिया है। भविष्य में, इसका प्रिंटआउट लिया जा सकता है।

मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना 6 श्रेणियों में निम्नवत् लागू की जायेगी:-

प्रथम श्रेणीनवजात बालिकाओं जिनका जन्म 01/04/2019 या उसके पश्चात् हुआ हो, को रू0 5000.00 एक मुश्त धनराशि से लाभान्वित किया जायेगा।
द्वितीय श्रेणीवह बालिकायें सम्मिलित होंगी जिनका एक वर्ष के भीतर सम्पूर्ण टीकाकरण हो चुका हो तथा उनका जन्म 01/04/2018 से पूर्व न हुआ हो, को रू0 2000.00 एक मुश्त धनराशि से लाभान्वित किया जायेगा।
तृतीय श्रेणीवह बालिकायें सम्मिलित होंगी जिन्होंने चालू शैक्षणिक सत्र के दौरान प्रथम कक्षा में प्रवेश लिया हो , को रू0 3000.00 एक मुश्त धनराशि से लाभान्वित किया जायेगा।
चतुर्थ श्रेणीवह बालिकायें सम्मिलित होंगी जिन्होंने चालू शैक्षणिक सत्र के दौरान छठी कक्षा में प्रवेश लिया हो , को रू0 3000.00 एक मुश्त धनराशि से लाभान्वित किया जायेगा।
पंचम श्रेणीवह बालिकायें सम्मिलित होंगी जिन्होंने चालू शैक्षणिक सत्र के दौरान नवीं कक्षा में प्रवेश लिया हो , को रू0 5000.00 एक मुश्त धनराशि से लाभान्वित किया जायेगा।
षष्टम् श्रेणीवह सभी बालिकायें सम्मिलित होंगी जिन्होंने 10वीं/12वीं कक्षा उत्तीर्ण करके चालू शैक्षणिक सत्र के दौरान स्नातक-डिग्री या कम से कम दो वर्षीय डिप्लोमा में प्रवेश लिया हो , को रू0 7000.00 एक मुश्त धनराशि से लाभान्वित किया जायेगा।

Kanya Sumangala Yojana Eligibility

योजना के लिए आवेदन करने के लिए आपको उत्तर प्रदेश राज्य की मूल निवासी बेटियों होना चाहिए।
एक परिवार की अधिकतम दो बेटियों को ही योजना का लाभ मिलेगा।

Kanya Sumangala Yojana Kab Shuru hui

एक परिवार में दो लड़की बच्चों के माता-पिता को कन्या सुमंगला योजना 2024 के तहत वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है। यह योजना 25 अक्टूबर 2019 को लखनऊ, उत्तर प्रदेश में लॉन्च की गई थी।

कन्या सुमंगला योजना online apply

सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। वेबसाइट के होम पेज पर, ‘मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना’ के ऑनलाइन आवेदन से संबंधित लिंक पर क्लिक करें। आवेदन प्रक्रिया के अनुसार, योजना से संबंधित आवेदन फॉर्म भरें।

कन्या सुमंगला योजना का पैसा कब तक आएगा

इस योजना के अनुसार, बालिकाओं को 25,000 रुपये दिए जाते हैं, जो छह किस्तों में बाँटे जाते हैं। पहले, पात्र बालिकाओं को 15,000 रुपये दिए जाते थे, जो छह चरणों में बाँटे जाते थे। अप्रैल 2024 से, इस योजना में मिलने वाली कुल राशि 15,000 रुपये से बढ़ाकर 25,000 रुपये कर दी गई है।